Manthan

38 Posts

222 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 17717 postid : 731430

" नेताओं का जाल "

  • SocialTwist Tell-a-Friend

देश हुआ आजाद तो जनता ने समाजवाद अपनाया
लोहिया ,जय प्रकाश के चेलों ने अपने -अपने राज्य संभाले
इसी बीच कम्यूनिस्टों ने भी अपना जाल बिछाया
भड़काया गरीबों को अपना राज्य बनाया
लोक तंत्र को ऎसे  चलाया  जैसे राजा राज चलाये
दान भी बाटा वोट खरीदे और पिट्ठू भी अपना बैठाया
कोई अनाज कोई टी. वी. लैपटॉप बाटें लोगों को ललचायें
नेता कहते क्या-क्या दिया तुमको हमने,बोलें जैसे ढीठ
गीता कहती कर्म का खाओ, मेहनत का खाओ कहता है इस्लाम
बाटें जनता के रूपयों को कहते ले लो, भीख कटोरा थाम
आदत भीख की मत डालो करो न नस्लें बर्बाद
काम दिलाओखुशहाली आये देश भी हो आबाद

देश हुआ आजाद तो जनता ने समाजवाद अपनाया

लोहिया ,जय प्रकाश के चेलों ने अपने -अपने राज्य संभाले

इसी बीच कम्यूनिस्टों ने भी अपना जाल बिछाया

भड़काया गरीबों को अपना राज्य बनाया

लोक तंत्र को ऎसे  चलाया  जैसे राजा राज चलाये

दान भी बाटा वोट खरीदे और पिट्ठू भी अपना बैठाया

कोई अनाज कोई टी. वी. लैपटॉप बाटें लोगों को ललचायें

नेता कहते क्या-क्या दिया तुमको हमने,बोलें जैसे ढीठ

गीता कहती कर्म का खाओ, मेहनत का खाओ कहता है इस्लाम

बाटें जनता के रूपयों को कहते ले लो, भीख कटोरा थाम         DR.Ashok Bhardwaj

आदत भीख की मत डालो करो न नस्लें बर्बाद

काम दिलाओखुशहाली आये देश भी हो आबाद

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

8 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Shobha के द्वारा
April 13, 2014

आपने चुनाव की सच्ची तस्वीर पाठकों के सामने रक्खी है शोभा

skjaiswalskj के द्वारा
April 13, 2014

उत्तम विचार

drashok के द्वारा
April 14, 2014

thank you very much sir ashok

pkdubey के द्वारा
July 18, 2014

आज़ादी के उपरांत देश के राजनीती की पूरी तस्वीर आप ने रखी,आदरणीय |सादर आभार |

drashok के द्वारा
July 18, 2014

श्री मान पाण्डेय जी हर आदमी आज कल नेता बनने का इच्छुक है खास कर स्कूल कालेज नेता गिरी के अड्डे है मेरे लेख को पढने का शुक्रिया डॉ अशोक

Candie के द्वारा
October 17, 2016

da, ai dreptate, Alterema, din păcate denominaÅ£ia baptistă face regulmente pentru tinerÅ£i şi femei, pentru departamente şi asociaÅ£iuni în interior, se organizează mai bine cu cei care vor mai rămîne în cult. Parcă toată problema baptiştilor este o problema de management5a8 de resurse umane şi sui…l®mpărÃãbri.Cuƒtul a ajuns să se ocupe de proiecte, nu de persoane.


topic of the week



latest from jagran